यांनी सेव्ह केला तुमच्या मोबाईल मध्ये UIDAI नंबर .. चिंता करू नका हा खुलासा वाचा

युनिक आयडेंटिफिकेशन अ‍ॅथॉरिटी ऑफ इंडियाचा (यूआयडीएआय) हेल्पलाईन क्रमांक मोबाईलमध्ये ऑटोसेव्ह होऊ लागला आहे. त्यामुळे अनेकांनी हा सायबर हल्ला असल्याचे म्हटले होते. तसेच हा नंबर आपण सेव्ह केला नसल्याचे युआयडीएआयने स्पष्ट केल्यानंतर हॅकर्सनी डेटा चोरीसाठी असे केले असल्याचीही चर्चा सुरु होती. व देशभरातील मोबाईल वापरकर्त्यांच्या मनात एक भीतीचे वातावरण तयार झाले होते. पण हा नंबर कसा काय सेव्ह झाला याबद्दलचा खुलासा आता समोर आला आहे त्यामुळे मोबाईलधारकांनी चिंता करू नये.

गेल्या काही दिवसांपासून 18003001947 असा आधारचा हेल्पलाईन नंबर अचानक कॉन्टॅक्ट लिस्टमध्ये दिसू लागला. त्यानंतर हा नंबर हॅकर्सनी सेव्ह केला असल्याचेही म्हटले जात होते. मात्र, गुगलने सुरुवातीलाच २०१४ मध्ये त्यांच्या सेटअप विझार्डमध्ये आधार क्रमांक समाविष्ट केला होता. फोन बदलल्यानंतरही तो नव्या फोनमध्ये ट्रान्सफर झाला असल्याचे गुगलेन जाहीर केले आहे. २०१४ मध्ये OEM (स्मार्टफोन बनवणाऱ्या कंपन्यांना दिला जाणारा प्रोग्रॅम) ना दिला होता. ॲड्रॉइड ही ऑपरेटींग सिस्टीम गुगलने तयार केली आहे. याचा वापर स्मार्टफोन आणि टॅब्लेटमध्ये केला जातो.

गुगलने दिलेल्या स्पष्टीकरणात म्हटले आहे की, आम्ही अंतर्गत परिक्षण केले असता २०१४ मध्ये भारतातील स्मार्टफोन तयार करणाऱ्या कंपन्यांना दिलेल्या सेटअप विझार्डमध्ये आधारचा हेल्पलाईन क्रमांक आणि आपत्कालिन मदत क्रमांक ११२ यांचा समावेश केला होता. तेव्हापासून हे नंबर फोनमध्ये सेव्ह होत आहेत. यामुळे काही समस्या निर्माण झाली असेल तर आम्ही दिलगिरी व्यक्त करतो. तसेच यामुळे कोणाचाही फोन, डिव्हाईस अनधिकृतपणे वापरले नसून हा नंबर डिलिट करता येत असल्याचेही गुगलने सांगितले.नव्या अपडेटमध्ये सध्याच्या त्रुटी काढून टाकल्या जातील. येत्या काही आठवड्यांमध्ये स्मार्टफोन तयार करणाऱ्या कंपन्यांना नवीन सेटअप विझार्ड उपलब्ध करुन दिले जाईल असे गुगलने स्पष्ट केले.

गुगलच्या या खुलाश्या नंतर चिंता करावयाचे कोणतेही कारण नाही आहे.कारण हा नंबर कोणत्याही अनधिकृत मार्गाने आपल्या मोबाईल मध्ये सेव्ह नाही झाला. आणि आपण हा नंबर आपल्या मोबाईल मधून डिलीट सुद्धा करू शकतो. तसेच अनेक आयफोन वापरकर्त्यांच्या मोबाईल मध्ये हि हा नंबर मिळाला होता त्याबद्दल त्यांच्या मनात चिंता आहे. आयफोन आयओएस वर चालतात तर त्यामध्ये आधार नंबर कसा सेव्ह झाला असाही प्रश्न अनेकांना पडला आहे. ज्यांनी आयफोन वापरण्यापूर्वी ॲड्रॉईड फोन वापरले आहेत त्यांच्या कॉन्टॅक्ट लिस्टमध्ये आधीच ॲड झालेला नंबर फोन बदलल्यानंतर दुसऱ्या फोनमध्येही ट्रान्सफर झाला. त्यामुळे कोणतीही चिंता करायचे कारण नाही.

बोटे दाखवून सेल्फी घेणे पडू शकते अत्यंत महागात ?? काय आहे वायरल सत्य वाचा

सोशल मीडियावर सध्या एक संदेश वायरल होतो आहे त्यामध्ये आपल्याला धक्का बसेल अशी माहिती आहे. प्रत्येकजण सेल्फी च्या आहारी गेला आहे. लहान मुलापासून म्हाताऱ्या माणसापर्यंत सर्वजण कधी ना कधी सेल्फी काढत असतात. तरुण तरुणी तर सेल्फी साठी क्रेजी असतात. सतत वेगवेगळ्या पोज मध्ये सेल्फी घेऊन त्या सोशल साईट वर पोस्ट केले जातात.पण आता सेल्फी मध्ये बोट दाखवणे आपल्यासाठी अत्यंत घातक असणार आहे. जाणून घ्या काय आहे सत्य.

व्हाटसअप वरून काय मेसेंज वायरल होतोय ते थोडक्यात पहा .. आपण जर बोटे दाखवून सेल्फी काढत असाल तर आपल्यासाठी हि गोष्ट महागात पडणार आहे. आपण कधी विचार केला नसेल कि सेल्फी मध्ये आपण बोटे दाखवल्याने त्या बोटांचे फिंगर प्रिंट चोरी करून आपली ओळख चोरल्या जाऊ शकते. आपल्या फोटोतील बोटांचे क्लिअर फोटो असतील तर त्यापासून काही सोफ्टवेअर च्या मदतीने फिंगर प्रिंट्स चोरल्या जातात व त्यांचा वापर चुकीच्या गोष्टीसाठी केला जाऊ शकतो. बँक खाते आधार कार्ड इत्यादी करिता फिंगर प्रिंट्स महत्वाचे असतात. आपल्या बोटांच्या ठशाचा वापर सायबर चोरटे वेगवेगळ्या गोष्टी करिता करू शकतात. त्यामुळे आपण बोट दाखवत सेल्फी काढू नये. नाहीतर आपल्याला याची मोठी किमत मोजावी लागेल.

वरील मेसेंज बाबत आम्ही सत्यता तपासली असता या मेसेंज मध्ये तथ्य आहे हे निदर्शनास आले आहे. चांगल्या मोबाईल किंवा कॅमेरा मधून आपण बोटासहित फोटो घेतला तर आपल्या बोटांचे ठसे चोरल्या जाऊ शकतात. याच्या साठी काही सोफ्टवेअर आहेत ज्याच्या माध्यमातून बोटांचे ठसे चोरता येतात व त्या ठशांची थ्रीडी प्रिंट काढून ते वापरली जाऊ शकतात. हे आपल्यासाठी अत्यंत घातक आहे. आपण सेल्फी घेताना बोटांचे ठसे दिसतील अशा प्रकारची सेल्फी घेऊ नये किंवा उलट्या बाजूने बोटे करूनही आपण सेल्फी घेऊ शकतात.आता सेल्फी घेताना आपण सावध राहायला हव कधी आपल्या फोटोचा वापर कोणी अनुचित गोष्टी करिता करू नये.

माहिती महत्वपूर्ण वाटल्यास अवश्य शेअर करा आणि आमचे पेज लाईक करायला विसरू नका…

चेंडू किंवा काळ्या ठिपक्यास टच केल्यास का होते whatsapp हँग वाचा कारण

whatsapp वर वेगवेगळ्या करामती येत असतात यापैकी सध्या एक मेसेज अत्यंत वायरल होत आहे. त्या मेसेज मध्ये चेंडूवर क्लिक केल्यास मोबाईल हँग होतो. हा प्रकार नवीन नाही आहे. whatapp वर किडा बॉम्ब इत्यादी मेसेज हेच काम करतात परंतु हे मेसेज कसे बनवले जातात आणि याचा काय फायदा या बद्दल आज आपण बघूया खासरे वर

तुम्हाला वाटेल कि चेंडू मध्ये किंवा एखाद्या काळ्या ठीपक्यात काही प्रॉब्लेम असेल परंतु तसे नाही आहे. आणि हा मेसेज तयार करणे हि अगदी सोपे आहे तुम्ही सुद्धा हे घरी बसून करू शकतात. या अगोदर एक तमिळ मेसेज असाच वायरल झाला होता त्याला क्लिक केल्यास आयफोन बंद पडत असे. हा चेंडू वाला मेसेज android मोबाईल बंद करत आहे. हा विषय html सोबत निगडीत आहे इंटरनेट वर अनेक वेबसाईट अश्या आहेत ज्या html चे रुपांतर text message मध्ये करता येऊ शकते. “‎ &rlm:” हे शब्द html मध्ये अनेक वेळेस लिहल्यास मोबाईल हँग होतो.

या प्रकारास Control character म्हणतात. या वेबसाईटवर उर्दू अथवा अश्या भाषेत वाक्य लिहल्या जाते ज्यामुळे मोबाईल बंद पडतो आणि हे text मध्ये convert केल्यामुळे आपल्याला हि वाक्य दिसत नाही. त्या एवजी आपल्याला एखादा दुसरा शब्द अथवा चिन्ह दिसतात. खाली दिलेल्या फोटो मध्ये आपण बघू शकता कि कश्या प्रकारे काळा ठिपका हा text मध्ये convert केलेला आहे.

अश्या मेसेज मुळे मोबाइलमध्ये वायरल वगैरे काही येत नाही परंतु या मेसेजवर क्लिक केल्यास आपले अप्लिकेशन नक्की बंद पडेल त्यामुळे हा मेसेज डीलेट केलेला बरा आहे. आपल्याला हि माहिती आवडल्यास अवश्य शेअर करा व आमचे पेज लाईक करायला विसरू नका..

रस्ता बनवणारी मशीन; एकीकडून विटा टाका, दुसरीकडून रस्ता

तुम्ही अनेक प्रकारच्या मशीन पाहिल्या असतील. म्हणजेच एकीकडून बटाटे टाकले की दुसरीकडून चिप्स तयार, अथवा एकीकडून पिठाचे गोळे ठेवले की दुसरीकडून चपाती तयार… अशा अनेक मशिन बाजारात उपलब्ध आहेत. मात्र जर तुम्हाला असे सांगितले की, एकीकडून फक्त विटा अथवा पेवर ब्लॉक (गट्टू) टाका आणि दुसरीकडून रस्ता तयार! काय अशक्य वाटतयं ना? हो मात्र हे खरं आहे.
टायगर स्टोन या कंपनीने एक अशीच मशीन तयार केली आहे. स्टोन पेवींग मशीन नावाच्या यामशिनीमुळे 400 यार्ड (365 मीटर) रस्ता केवळ एका दिवसात बनते. म्हणून या मशिनीला ‘रोड प्रिंटर’ असेही संबोधले जाते. विशेष म्हणजे हा रस्ता हाताने बनवायचा असेल तर अनेक लोकांचे परिश्रम तर लागतातच मात्र एवढे अंतर एका दिवसात कापणे शक्य होत नाही. या मशिनच्या साह्याने केवळ 4-5 लोकांच्या मदतीने तुम्ही हा रस्ता अगदी आरामात बनवू शकतात.

टायगर स्टोनची ही मशिन पूर्णपणे वीजेवर चालते. या मशीनीमध्ये अनेक छोट-छोटे पार्ट लावण्यात आले आहे. त्यामुळे या मशीनीचा आवाजही फार कमी येतो. या मशिनमध्ये लावण्यात आलेल्या सेंसरमुळे ही मशीन रस्ता सोडत नाही. तसेच एका ठरवलेल्या आऊटलाईनमध्येच ही मशीन काम करते. कंपनीकडून ही मशीन विविध आकारांमध्ये उपलब्ध आहे. यामध्ये 13, 16 आणि 20 फुट अशा आकारांत ही मशिन मिळते. तर या मशिनची किंमत $81,485 (49,27,805 रु.) ते $108,655 (65,70,911 रु) एवढी आहे.

जुगाड़ का कमाल, भारतीय ने बनाया 650 KM की रफ्तार से चलने वाली बाइक

भारतीयों से बेहतर जुगाड़ु कोई नहीं होता है. जुगाड़ के मामले में भारतीय सबसे आगे हैं. ऐसा ही जुगाड़ से सुपर बाइक बनाने का अनोखा काम सूरत के रहने वाले रुज्बे गावमास्टर ने किया है.

सबसे बड़ी बात तो यह कि इस जुगाड़ की बदौलत उन्हें गोवा में हुए इंडियन बाइक वीक में बेस्ट इनोवेटिव बाइक का अवॉर्ड मिला है. ऑटो इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे रुज्बे के इस कारनामे से हर कोई हैरान है.

उन्होंने महज 13 हजार रुपये में अपने पिता के दोस्त से पुरानी मारुति कार खरीदी फिर इसके इंजन का इस्तेमाल करके 800 सीसी की बाइक बना डाली.

सबसे हैरान करने वाली बात तो यह कि इस बाइक की स्पीड 650 किमी प्रति घंटा है, जो किसी भी भारतीय ब्रांडेड बाइक से कही ज्यादा है. इस बाइक की ख़ास बात यह है कि इसमें फ्रंट गेयर के अलावा बैक गेयर भी हैं.

रुज्बे को यह बाइक बनाने के लिए दो साल का वक्त लगा और इसमें करीब एक लाख रुपये खर्चा आया. इस बाइक के डिजाइन से लेकर वेल्डिंग तक खुद रुज्बे ने ही की है.

इसके पहले भी रुज्बे इस तरह के इनोवेशन करते रहे हैं. उन्हें बाइक्स का शौक बचपन से ही है. ऑटोमोबाइल डिज़ाइनिंग क्षेत्र में रुज्बे आगे अपना करियर बनाना चाहते हैं. इसके पहले भी इस तरह की बाइक्स बना चुके हैं और उनका नाम भी लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है.

इन चीजो को आप भी समझते होंगे फालतू, जानिए इनके होने की वजह

जब हम छोटे हुआ करते थे तब कुछ चीजो को लेकर सवाल हमारे दिमाग में भी उत्पन्न होते थे लेकिन जब आज हम बड़े हो गये है तो हमारी लाइफ बहुत वयस्त हो गयी हमको चीजो के बारे में जानने का समय नही मिलता है क्योकि कुछ चीजे ऐसी होती है जो हमारे दिमाग में सवाल पैदा करती है.

आज हम आपके लिए कुछ ऐसी चीजे लेकर आये है जो आप भी बचपन से देखते आ रहे है लेकिन शायद ही आपने पहले इतना गौर किया हो वो चीजे बहुत काम की होती है मगर हम उसको फालतू समझ लेते है आइये जानते है उन चीजो के बारे में.

हेडफोन जैक-:

जब भी हेडफोन का इस्तमाल करते है तो ध्यान जरुर इन तीन रिंग पर गया होगा नही भी गया तो अब जरुर जाएगा तीन रिंग में सबसे ऊपर वाली रिंग माइक या ग्राउंड ऑडियो,बीच वाली रिंग राइट ऑडियो नीचे वाली रिंग लेफ्ट ऑडियो के लिए होती है.

आईफोन के कैमरे के पास छेद-:

यह छेद एक माइक्रोफोन होता है जब हम विडियो रिकॉर्डिंग करते है तो आवाज स्पष्ट रूप से आती है.

ताले के नीचे एक छोटा सा छेद-:

यह छेद बारिश के दिनों के लिए बहुत उपयोगी होता है जब भी ताले में पानी जाता है तो इस छेद के जरिए बहार आ जाता है तो इस छेद की मदद से आप ताले में तेल भी डाल सकते है.

जीन्स जेब में लगे छोटे बटन-:

जब भी इन बटन को देखते तो ऐसा लगता है की यह शो के लिए लगाए गए है लेकिन यह शो के लिए नही बल्कि इन बटन से जेब को मजबूती प्रदान होती है.

बर्तन के हैंडल में छेद-:

यह छेद इसलिए होता है ताकि आप उसमे चम्मच फंसा सकें कई बार आप जल्दबाजी में चम्मच को इधर-उधर रख देते है और फिर खुद ही परेशान हो जाता है.

चार्जर में सिलेंडर-:

जब भी आप लैपटॉप या मोबाइल फ़ोन चार्जिंग करते है तो यह सिलेंडर पर आपकी नजर जरुर गयी होगी यह लैपटॉप को इलेक्ट्रोमैग्नेटिक नॉइज़ से बचाता है.

ट्यूब के ढक्कन में नोक-:

ट्यूब के ढक्कन में नोक देखने को मिलती ताकि इसकी मदद से ट्यूब को आसानी से खोल सके.

कार की छत पर फिन-:

यह केस की तरह होता जिसे gps को ढकने के लिए लगया जाता है.

गुजरात का वाडिया: इस गांव में हर लड़की है वैश्या, 12 साल की उम्र में मां बन जाती है लड़कियां!

Whatsapp failure

दुनियाके सभी लोगो का व्हाट्सअप हैक ? पढीये पुरी खबर…

भारत सहित दुनिया के कई देशों में वॉट्सऐप का सर्वर डाउन हो गया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक वॉट्सऐप करीब एक घंटे तक बंद रहा, इसे दौरान वॉट्सऐप के जरिए ना तो मैसेज जा रहे थे और ना ही कॉल। हालांकि, कुछ समय बाद इसे ठीक कर लिया गया। भारत में अभी वॉट्सऐप काम कर रहा है। अब इसके जरिए दोबारा से मैसेज और कॉल कर सकते हैं। बता दें, ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि जब वॉट्सऐप में इस तरह की दिक्कत आई हो। सितंबर महीने में भी ऐसी समस्या सामने आई थी। उस वक्त भी यूजर्स ने ऐप का इस्तेमाल न कर पाने की शिकायत की थी। मई महीने में भी पूरी दुनिया में कुछ घंटों के लिए वॉट्सऐप डाउन हो गया था। इनमें मलेशिया से लेकर स्पेन, जर्मनी और कुछ दूसरे यूरोपीय देश भी शामिल थे। सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देशों में बेल्जियम, नीदरलैंड्स और ब्रिटेन जैसे देश थे।

वाट्सएप के बंद हो जाने से दुनिया भर में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा. लोग अपने कई जरूरी काम जैसे अपने ऑफिस के लोगों से संपर्क, फाइल्स शेयर करना, तस्वीरें भेजना आदि वाट्सऐप के जरिए करते हैं. अब तक इस घटना के कारणों का पता नहीं लग पाया है. इस तकनीकी गड़बड़ी के बाद एप डेवलपर्स ने इसपर काम शुरू कर दिया और घंटेभर बंद रहने के बाद इसे ठीक कर लिया गया है.

लोगों ने खूब लिए मजे

WhatsApp-Error

दुनियाभर में इसके बाद लोगों ने ट्विटर पर जा कर इसपर अपने कमेंट्स करने शुरू कर दिए. गौरतलब है कि इससे पहले मे में भी अचानक वाट्सऐप डाउन हो गया था जिसका असर मुख्य रूप से यूरोप में पड़ा था.

service stopped

एक रिपोर्ट के मुताबिक इस क्रैश का असर ज्यादातर भारत, मलेशिया और यूरोप में हुआ. इसके बाद दुनियाभर में लोगों को मजे लेने का एक मौका दे दिया. लोगों अन्य सोशल मीडिया जैसे फेसबुक और ट्विटर पर इसे लेकर खूब कमेंट्स किए. सिंगापुर में फेसबुक के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी इस मामले की जांच कर रही है।

पढ़िए: बाइक में किया बस इतना बदलाव और एवरेज हो गया 153 किलोमीटर

Bike technology

बाइक में किया बस इतना बदलाव और एवरेज हो गया 153 किलोमीटर

कर ले जुगाड़ कर ले…कर ले कोई जुगाड़। भाईसाहब, ये गाना तो बहुत बाद में आया है। लेकिन भारतीय इस विधा में सदियों से माहिर हैं। अगर यह भी कहा जाए कि जुगाड़ नाम की विधा भारत में ही पैदा की गई है तो भी गलत नहीं होगा। यहां इसके बूते लोग कुछ भी कर सकते हैं।

अब देखिए ना, उत्तरप्रदेश के एक युवक ने ऐसी जुगाड़ की है जिसके बूते बाइक एक लीटर पेट्रोल में 153 किलोमीटर का एवरेज देने लगी। बताओ मतलब…। आपकी बाइक कितना एवरेज देती है। केवल 70 का। भाई इस हिसाब से तो यह एवरेज डबल हो गया।

अब आपको विश्वास नहीं हो रहा होगा कि इतना एवरेज भी हो सकता है भला। नहीं ना। मगर यह सच है। ऐसी ही एक जुगाड़ को एक तकनीक के तौर बदला गया है। और तो और इसे उत्तर प्रदेश काउंसिल फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी के साथ ही एक राष्ट्रीय इंस्टीट्यूट ने प्रमाणित भी किया है।

यह जुगाड़ इतना सस्ता है कि महज चंद रुपए में एक छोटा सा बदलाव करके 153 किलोमीटर प्रतिलीटर का एवरेज पाया जा सकता है। मगर कैसे। इस बात का पता आपको यह स्टोरी पढ़ने के बाद लग जाएगा। तो फिर देर किस बात की है। आइए जानते हैं पूरा मामला।

कौन हैं ये शख्स

ये हैं उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले के गुदड़ी गांव के रहने वाले विवेक कुमार पटेल। बाइक इंजन को लेकर सालों से मेहनत कर रहे थे। अब जाकर मेहनत सफल हुई।

क्या किया

बाइक के इंजन में मामूली फेरबदल किया। इसके बाद बाइक का एवरेज बढ़कर 153 किलोमीटर प्रति लीटर हो गया। विवेक किसी भी बाइक के इंजन में अपनी तकनीक का उपयोग कर उसका एवरेज 30 से 35 किलोमीटर बढ़ा देते हैं।

दो संस्थाओं ने किया प्रमाणित

नवभारत टाइम्स के अनुसार विवेक का जुगाड़ सिर्फ जुगाड़ नहीं है, बल्कि वह तकनीक के रूप में बदल गया है। कारण कि इसे उत्तरप्रदेश काउंसिल अॉफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी और इलाहाबाद के मोतीलाल नेहरू नेशनल इंस्टिट्यूट अॉफ टेक्नोलॉजी ने इसे प्रमाणित कर दिया है।

आइडिया को मिल गया अप्रूवल

रिपोर्ट्स के मुताबिक उत्तरप्रदेश काउंसिल ने विवेक के इनोवेशन को तकनीकी रूप से प्रमाणित करने के लिए मोतीलाल नेहरू नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट से इसकी टेस्टिंग कराई। हैरानी की बात यह है कि जांच में तकनीक सही पाई गई।

क्या है तकनीक

इस तकनीक में बस कार्बोरेटर को बदलना होता है। विवेक, बाइक में लगा कार्बोरेटर निकालकर अपना कार्बोरेटर लगा देता है। इसके बाद बाइक का एवरेज बढ़ जाता है। बताया जा रहा है कि इसमें पांच सौ रुपए का खर्च आता है। मीडिया रिपोर्टस में बताया जा रहा है कि इस तकनीक में कॉर्बोरेटर को सेट कर दिया जाता है।

पेटेंट के लिए आवेदन

यूपीसीएसटी ने इस आइडिया को पेटेंट रजिस्ट्रेशन के लिए भी अप्लाय कराया है। पेटेंट होने के बाद इसका कमर्शियल उपयोग किया जा सकता है। तभी यह तकनीक सबके लिए उपलब्ध हो सकेगी।

आगे क्या हो सकता है

इस तकनीक के एक बार पेटेंट हो जाने के बाद बाइक्स मैन्युफेक्चरिंग कम्पनियां इसे खरीद भी सकती है। इसका उपयोग कर ज्यादा माइलेज वाली बाइक बेचकर अपनी सेल्स और मुनाफा बढ़ा सकती है। वहीं दूसरी ओर अगर भविष्य में इस तकनीक की बाइक्स आती हैं तो पेट्रोल की खपत में कमी आएगी। 2015 के एक आंकड़े के अनुसार देश में 15 करोड़ से ज्यादा बाइक्स हैं। अब दो बाइक्स के बराबर एवरेज एक बाइक देगी तो पेट्रोल कम्पनियों का हाल आप समझ सकते हैं।

स्टार्टअप प्रोजेक्ट बना

कटरा स्थित श्री माता वैष्णो देवी यूनिवर्सिटी के टेक्नॉलजी बिजनस इंक्यूबेशन सेंटर ने विवेक की इस तकनीक को स्टार्टअप के तौर पर रजिस्टर किया है। इसके लिए सेंटर की ओर से स्टार्टअप प्रॉजेक्ट के लिए 75 लाख रुपये की मदद भी स्वीकृत की गई है।

नहीं पड़ता पिकअप में अंतर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीसीएसटी के जॉइंट डायरेक्टर इनोवेशन ने बताया कि इस तकनीक से पेट्रोल की खपत कम हो जाती है। साथ ही स्पीड और पिकअप में भी कोई परिवर्तन नहीं आया।

क्या कहते हैं विवेक

विवेक ने मीडिया को बताया कि मैं इस तरकीब को बाइक, जनरेटर समेत अन्य वाहनों का एवरेज बढ़ाने में प्रयोग करने लगा। इसके अनुसार काम करने में मुझे करीब 2 साल लग गए। तो कैसी लगी आपको यह स्टोरी। अपने दोस्तों को भी बताइएगा।

मात्र बिस्तर पर पड़े रहने के लिए नासा दे रहा है 6 करोड़, आज ही करें अप्लाई

विश्वभर में कई लोग रात के उल्लू हैं जो रात में जगे रहना पसंद करते हैं। लेकिन क्या होता है जब आपको पूरे समय बिस्तर पर रहने के लिए कहा जाए? क्या यह उन लोगों के लिए भी संभव होगा जो रात के उल्लू होते है? नासा ने हाल ही में एक अध्ययन की घोषणा की है जिसके लिए 60 दिनों के लिए बिस्तर पर रहने वाले उम्मीदवारों की आवश्यकता है।

अंतरिक्ष यान में लंबे समय तक रहने के लिए रहने वाले अंतरिक्ष यात्री के द्वारा उनकी समस्याओं का सामना करने के लिए जैसे अंतरिक्ष यान में स्थिरता और बिस्तर पर आराम के प्रभावों का निरीक्षण करने और मांसपेशी एट्रोफी और अस्थि घनत्व की गिरावट की समस्याओं का प्रबंधन करने के तरीके का पता लगाने के लिए यह अध्ययन नासा के नासा बेड रेस्ट अध्ययनों का एक हिस्सा है।

1. कैंडिडेट्स को 2 महीने के लिए बिस्तर में रहना होगा

अध्ययन के लिए चुने गए उम्मीदवारों को नौकरी के लिए चयन के लिए 60 दिनों तक बिस्तर में रहना और कठोर, शारीरिक और मनोवैज्ञानिक परीक्षणों से गुजरना पडेगा।

2. नासा अपने बेड रेस्ट अध्ययनों के लिए स्वयंसेवकों की तलाश कर रहा है

नासा अपने बिस्तरों के आराम के अध्ययन के भाग के रूप में स्वयंसेवकों की तलाश कर रही है और नौकरी के लिए उदारता से भुगतान करेगा। यद्यपि यह भुगतान भयानक है, यह काम कठिन होगा क्योंकि प्रतिभागियों को एक विशेष बिस्तर पर लेटना होगा जो रक्तचाप को कम कर देता है और धीरे-धीरे रक्त की मात्रा को कम करता है।

3. कुछ दिनों बाद बीमारी और कमजोरी का जोखिम

दिनों की प्रगति के पश्चात, प्रतिभागियों की मांसपेशियों का बुरी तरह से बिगड़ना शुरू हो सकता है और एक ऐसी हालत में पँहुच सकता है, जिसे मासपेशी आत्रोप्य कहते हैं जो तब होता है जब आप एक लंबे समय के लिए स्थिर रहते हैं।अस्थि घनत्व भी कम हो जाता है।

4. स्वयंसेवक एक विशेष बिस्तर पर लेटते हैं जो अंतरिक्ष का अनुकरण करते हैं

विशेष बिस्तर यह बताता है कि दिन के अंतराल अंतरिक्ष यात्रियों को कैसे प्रभावित करते हैं। छह डिग्री के कोण पर झुका हुआ बिस्तर कार्डियोवास्कुलर सिस्टम को उसी तरह प्रभावित करता है जिस प्रकार अंतरिक्ष में प्रभावित करेगा। शरीर की प्रतिरक्षा भी घटने लगती है जिसके चलते बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है।

5. सब कुछ बिस्तर पर किया जाना चाहिए

नियमों का कहना है कि जब तक आप बिस्तर पर रहना चाहते हैं, तब तक आप कुछ भी कर सकते हैं। उम्मीदवारों को दो समूहों में विभाजित किया जाता है जहां एक समूह को विशेष उपकरण के साथ व्यायाम करने की इजाजत होती है और अन्य समूह को विश्राम को छोड़कर किसी भी गतिविधि की अनुमति नहीं है। पूरे साठ दिनों के दौरान, सभी प्रतिभागियों को अपने बिस्तर छोड़ने की अनुमति नहीं दी जाती है भले ही इसका अर्थ हो नित् क्रिया के लिए जाना या भोजन के लिए।

6. अध्ययन में अंतरिक्ष यात्री पर अंतरिक्ष के प्रभाव को देखा जाता है

प्रयोग को यह अध्ययन करने के लिए किया जा रहा है कि कैसे लम्बे समय के लिए आराम के दौरान शरीर प्रतिक्रिया करता है और यह देखने के लिए कि हड्डी और मांसपेशियों के आत्रोप्य को अंतरिक्ष कैसे प्रभावित करता है। अध्ययन का उद्देश्य अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्री के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नए तरीकों की खोज़ करना और नासा के शोध में सहायता करना है।

7. अंतरिक्षविज्ञानियों के बदलते शरीर विज्ञान का अध्ययन करना

यह भी पता लगाने का लक्ष्य है कि अंतरिक्ष में शरीर विज्ञान में परिवर्तन कैसे भविष्य के मिशनों को और अंतरिक्ष में कुछ कार्य करने की उनकी क्षमता को प्रभावित कर सकता है । यह नासा को ऐसी शारीरिक हानि को दूर करने के लिए काउंटर उपायों को तैयार करने मे सहायता भी करेगा, जो कि अंतरिक्ष स्थितियों मे अंतरिक्ष यात्री पर लगाया जा सकता है।

8. 60 दिनों के लिए कुल बिस्तर आराम और नासा भुगतान भी करता है

2014 में, नासा बेड रेस्ट के अध्ययन ने इसी तरह के प्रयोगों का आयोजन किया जहां उन्होंने प्रतिभागियों को बिस्तर में 70 दिन व्यतीत करने के लिए $ 18,000 का भुगतान किया था।एंड्रयू इवानिकी, एक प्रतिभागी, ने वाईस के लिए पूरे अध्ययन के बारे में बताया। उन्होंने कहा, ‘मुझे गंभीर सिरदर्द का सामना करना पड़ा क्योंकि मेरे सिर में रक्तचाप बढ़ गया था।

मेरी रीढ़ गंभीर दर्द से जूझ रही थी। क्षैतिज रहना मुश्किल है। मुझे पता चल गया कि रीढ़ की हड्डी पर पूरे दिन सभी अंगों से पड़ने वाले दबाव को मात्र रीढ़ की हड्डी पर लेना मुश्किल होता है।’ एक समय पर,उन्होंने नासा पर बहुत ज्यादा फ़टकार की इच्छा भी ज़ाहिर की।

16 साल की लड़की ने बनाया देसी AC कीमत मात्र 1800 रुपये..

झाँसी की एक 16 साल की लड़की ने केवल 1800 रुपये में AC तैयार कर दिखाया है। कल्याणी श्रीवास्तव नाम की इस लड़की के इस AC को आईआईटी दिल्ली ने नेशनल लेवल पर ऑर्गनाइज हुए मॉडल कॉम्पिटीशन में सेलेक्ट किया है। इंटरमीडिएट की छात्रा कल्याणी का ये AC सोलर सिस्टम से चलता है, जो कि पर्यावरण और ग्रामीण परिवेश के भी अनुकूल है।

कल्याणी श्रीवास्तव के इस देसी AC में थर्माकोल से बने आइस बॉक्स में 12 बोल्ट के डीसी पंखे से हवा छोड़ी जाती है। एल्बो से ठंडी हवा का प्रवाह होता है। इसे एक घंटा चलाने पर तापमान में चार-पांच डिग्री की कमी आ जाती है और पर्यावरण को भी कोई नुकसान नहीं पहुँचता।

कल्याणी श्रीवास्तव अभी सिर्फ 16 बरस की हैं और वो झांसी की रहने वाली हैं। महंगाई के इस दौर में उन्होंने 1800 रुपए का एसी बनाया है, जो आर्थिक तौर पर कमजोर लोगों की जेब पर भी भारी नहीं पड़ेगा, क्योंकि एसी की कीमत कम होने के साथ-साथ एसी सोलर एनर्जी से चलता है, जिसके चलते बिजली के खर्च से भी मुक्ति। कल्याणी श्रीवास्तव के इस एसी को IIT दिल्ली ने नेशनल लेवल पर ऑर्गनाइज हुए मॉडल कॉम्पिटीशन में सेलेक्ट किया है। ये AC पर्यावरण और ग्रामीण परिवेश के भी अनुकूल है।

कल्याणी को इसके लिए जापान में होने वाली बाल वैज्ञानिक कांफ्रेंस का भी आमंत्रण मिला था। उत्तर प्रदेश सरकार और हिन्दी अखबार ‘अमर उजाला’ की साझा पहल ‘नारी सम्मान’ अभियान के तहत भी पिछले साल कल्याणी को खेल, शिक्षा, बहादुरी, कला, सामाजिक कार्य व उद्यमिता में विशिष्ट योगदान देने वाली छह महिलाओं के साथ सम्मानित किया गया था।

कल्याणी श्रीवास्तव में वैज्ञानिक प्रतिभा तो है ही, साथ ही वो गायन की प्रतिभा से भी लोगों का दिल जीत चुकी है। वो रियलिटी शो ‘इंडियन आयडल’ में तीन राउंड तक पहुंचकर अपनी प्रतिभा दिखा चुकी हैं।

कल्याणी श्रीवास्तव के इस देसी AC में थकोर्माल से बने आइस बॉक्स में 12 बोल्ट के डीसी पंखे से हवा छोड़ी जाती है। एल्बो से ठंडी हवा का प्रवाह होता है। इसे एक घंटा चलाने पर तापमान में चार-पांच डिग्री की कमी आ जाती है और पर्यावरण को भी कोई नुकसान नहीं पहुँचता।

कल्याणी श्रीवास्तव में वैज्ञानिक प्रतिभा तो है ही, साथ ही वो गायन की प्रतिभा से भी लोगों का दिल जीत चुकी है। वो रियलिटी शो ‘इंडियन आयडल’ में तीन राउंड तक पहुंचकर अपनी प्रतिभा दिखा चुकी है। वो लखनऊ, कानपुर, आगरा, लखीमपुर, झांसी, ग्वालियर सहित कई शहरों में हुईं संगीत प्रतियोगिताओं में 50 से ज्यादा इनाम जीत चुकी है।

लोकमान्य तिलक इंटर कॉलेज की छात्रा कल्याणी के पिता दिनेश श्रीवास्तव बेसिक शिक्षा विभाग में अध्यापक है। उसकी माँ दिव्या श्रीवास्तव भी शिक्षिका हैं।

कल्याणी को इसके लिए जापान में होने वाली बाल वैज्ञानिक कांफ्रेंस का भी आमंत्रण मिला था। उत्तर प्रदेश सरकार और हिन्दी अखबार ‘अमर उजाला’ की साझा पहल ‘नारी सम्मान’ अभियान के तहत भी पिछले साल कल्याणी को खेल, शिक्षा, बहादुरी, कला, सामाजिक कार्य व उद्यमिता में विशिष्ट योगदान देने वाली छह महिलाओं के साथ सम्मानित किया गया था।

कल्याणी श्रीवास्तव में वैज्ञानिक प्रतिभा तो है ही, साथ ही वो गायन की प्रतिभा से भी लोगों का दिल जीत चुकी है। वो रियलिटी शो ‘इंडियन आयडल’ में तीन राउंड तक पहुंचकर अपनी प्रतिभा दिखा चुकी हैं।

कल्याणी श्रीवास्तव के इस देसी AC में थकोर्माल से बने आइस बॉक्स में 12 बोल्ट के डीसी पंखे से हवा छोड़ी जाती है। एल्बो से ठंडी हवा का प्रवाह होता है। इसे एक घंटा चलाने पर तापमान में चार-पांच डिग्री की कमी आ जाती है और पर्यावरण को भी कोई नुकसान नहीं पहुँचता।